यह जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं – Hindi Shayari

यह जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं,
कभी सबा को कभी नामबर को देखते हैं,
वो आये घर में हमारे खुदा की कुदरत है,
कभी हम उनको कभी अपने घर को देखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *