मेरी खामोशियों पर भी उठ रहे थे सौ सवाल – Hindi Shayari

मेरी खामोशियों पर भी उठ रहे थे सौ सवाल,
दो लफ्ज़ क्या बोले मुझे बेगैरत बना दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *