तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत नहीं है ग़ालिब

😊😊😊😊😊😊😊😊
तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत नहीं है ग़ालिब
कौन होश में रहता है तुझे देखने के बाद
😊😊😊😊😊😊😊😊

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *