Category - Urdu Shayari

ख़ूबसूरत सी कोई अफ़वाह बस

इश्क़ क्या है… ख़ूबसूरत सी कोई अफ़वाह बस…
वो भी… मेरे और तुम्हारे दरमियान उड़ती हुईं…!!

मुद्दत बाद जब उसने मेरी खामोश आँखें देखी तो

मुद्दत बाद जब उसने मेरी खामोश आँखें देखी तो…
ये कहकर फिर रुला गया कि लगता है अब सम्भल गए हो…!!

कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ

कलम चलती है तो दिल की आवाज लिखता हूँ,
गम और जुदाई के अंदाज़-ए-बयां लिखता हूँ,
रुकते नहीं हैं मेरी आँखों से आँसू,
मैं जब भी उसकी याद में अल्फाज़ लिखता हूँ।

ता-उम्र अब सफर में गुजरने लगी है जिंदगी

ता-उम्र अब सफर में गुजरने लगी है जिंदगी
महरूम अब हमसे होने लगी है हर खुशी
कुछ मसरूफ सा रहने लगा हूं मैं भी अब मंज़िलो की तलाश में
ना जाने कब खत्म होगा ये सफर ऐ-ज़िन्दगी

आइना फैला रहा है खुदफरेबी का ये मर्ज़

😎😎😎😎😎😎
आइना फैला रहा है खुदफरेबी का ये मर्ज़
हर किसी से कह रहा है,आप सा कोई नहीं ….
😎😎😎😎😎😎😎😎

इश्क हुआ है तुझसे बस यही खता है मेरी

💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘
इश्क हुआ है तुझसे, बस यही खता है मेरी,
तु ही मोहब्बत और तु ही कमजोरी है मेरी !!
💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘💘

तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत नहीं है ग़ालिब

😊😊😊😊😊😊😊😊
तेरे हुस्न को परदे की ज़रुरत नहीं है ग़ालिब
कौन होश में रहता है तुझे देखने के बाद
😊😊😊😊😊😊😊😊

ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा

ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा,
मैं खुद तन्हा रहा मगर दिल को तन्हा नहीं रखा,
तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज़ रखे हैं,
तुम्हारी नफरतों की पीर को ज़िंदा नहीं रखा।

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं

मुहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं!
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं!
मुद्दतें बीत जाती हैं किसी के इंतज़ार में!
ये सिर्फ पल-दो-पल का काम नहीं!

ये रिहाई भी क्या कोई रिहाई है – Urdu Shayari

ये रिहाई भी क्या कोई रिहाई है,सितमगर,
परिंदा आज़ाद भी किया,पंख कतरने की शर्त पर…

हजारों उलझनें राहों में – Urdu Shayari

हजारों उलझनें राहों में और कोशिशें बेहिसाब
इसी का नाम है ज़िन्दगी, चलते रहिये जनाब….

मंजिलें मेरे क़रीब से गुजरती गयी जनाब – Urdu Shayari

मंजिलें मेरे क़रीब से गुजरती गयी जनाब,
और हम औरों को रस्ता दिखाने में रह गए !!

दर्दे दिल की दवा नहीं करते – Urdu Shayari

दर्दे दिल की दवा नहीं करते, ये करम दिलरुबा नहीं करते |
चोट खाई तो ये यकीन हुआ, हुशन वाले कभी दुआ नहीं करते ||

फर्क बहुत है तेरी और मेरी तालीम में – Urdu Shayari

फर्क बहुत है तेरी और मेरी तालीम में…
तूने उस्तादों से सीखा है और मैंने हालातों से…

ले दे के अपने पास फ़क़त एक नजर तो है – Urdu Shayari

ले दे के अपने पास फ़क़त एक नजर तो है
क्यूँ देखें ज़िन्दगी को किसी की नजर से हम…….