हँस कर क़बूल क्या कर ली हर सज़ा हमने

हँस कर क़बूल क्या कर ली हर सज़ा हमने,
दस्तूर बना लिया उन्होंने भी इल्ज़ाम लगाने का…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *