ये रिहाई भी क्या कोई रिहाई है – Urdu Shayari

ये रिहाई भी क्या कोई रिहाई है,सितमगर,
परिंदा आज़ाद भी किया,पंख कतरने की शर्त पर…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *