मत इतरा मेरी मोहब्बत पाकर पगली – Shayari

मत इतरा मेरी मोहब्बत पाकर पगली…
तुझे क्या पता तेरा नम्बर कितनों के बाद आया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *