मंजिलें मेरे क़रीब से गुजरती गयी जनाब – Urdu Shayari

मंजिलें मेरे क़रीब से गुजरती गयी जनाब,
और हम औरों को रस्ता दिखाने में रह गए !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *