बेवजह ही दौड़े जा रहे हो धूप में

बेवजह ही दौड़े जा रहे हो धूप में तुम, छांव तो कुछ पल इंतज़ार करके आ ही जायेगी।
बेवजह ही डूबे जा रहे हो दूसरों की फिक्र में तुम, उनकी जिंदगी में बहार तो आ ही जायेगी। ….
खुद पर यकीन करो जज़्बा और जुनून रखो , मेहनत करो और दिलोदिमाग में सुकून रखो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *