बरसों बाद न जाने क्या समां होगा – Hindi Shayari

बरसों बाद न जाने क्या समां होगा,
हमसब दोस्तों में न जानें कौन कहाँ होगा,
अगर मिलना हुआ तो मिलेंगें ख्वाबों में,
जैसे सूखे हुये गुलाब मिलते हैं किताबों में।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *