निगाहों में बिठाना चाहता है

निगाहों में बिठाना चाहता है
वो अपना दिल लगाना चाहता है
सँभल कर फासलों से चल जरा
वो ख़ंजर आज़माना चाहता है ।।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *