जब कभी सिमटोगे तुम – Hindi Shayari

जब कभी सिमटोगे तुम… मेरी इन बाहों में आकर,
मोहब्बत की दास्तां मैं नहीं मेरी धड़कने सुनाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *