इश्क़ अब इश्क़ नही रहा-गोरखधंधा हो गया – Hindi Shayari

नाज़ था जिन अपनों पे उनसे ही शर्मिंदा हो गया है ,
महंगा था इसका मोल कभी;
अब जी एस टी सा मंदा हो गया है,
इश्क़ अब इश्क़ नही रहा गोरखधंधा हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *