आँसू जानते हैं कौन अपना है

*आँसू जानते हैं कौन अपना है*
*तभी अपनों के आगे निकलते हैं,*
*मुस्कुराहट का क्या है ,*
*ग़ैरों से भी वफ़ा कर लेती है..!!*
शुभ सुखद रात्रि जय श्री साईं राम
🙏🏻💐🙏🏻💐🙏🏻💐🙏🏻💐

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *